ऋग्वेद पहला अध्याय सूक्ति -4

दुहने हेतु गो को पुकारने वाले के समान , अपनी सुरक्षा के लिए हम उत्तमकर्मा इंद्रदेव का आहान करते हैं | हे सोमपायी इंद्रदेव ! सोमपान के लिए हमारे अनुष्ठान … Read More

ऋग्वेद पहला अध्याय सूक्ति -3

हे विशाल भुजाओं वाले शुभ कार्य के संपादक दुत () कार्यकारी ! अनुष्ठान अन्य से संतुष्टि को प्राप्त होओ | हे अग्नि देव ! तुम विभिन्न कार्य को संपन्न करने … Read More

ऋग्वेद पहला अध्याय सूक्ति -2

हे प्रिय-दर्शन वार्यों ! यहां पर पधारो , लिए यह सुप्रसिद्ध सोम रखा है , उसे पीते हुए हमारे संकल्प ऊपर ध्यान आकृष्ट करो है वार्यों ! यह सोम निष्पान … Read More

ऋग्वेद पहला अध्याय सूक्ति -1

पहले प्रकाशित याद करने वाला, देवदूत सत्य मुक्त अग्नि देव का पूजन करता हूं | पूर्व समय में जिनकी ऋषि यों ने आराधना की थी तथा वर्तमान में भी ऋषि … Read More