𝗦𝗿𝗶 𝗞𝗮𝗹𝗮𝗵𝗮𝘀𝘁𝗶 𝘁𝗼 𝗘𝗸𝗮𝗺𝗯𝗮𝗿𝗲𝘀𝘄𝗮𝗿𝗮𝗿 𝗧𝗲𝗺𝗽𝗹𝗲 𝗶𝘀 𝗲𝘅𝗮𝗰𝘁𝗹𝘆 𝟭𝟬𝟬 𝗸𝗺 𝘄𝗵𝗶𝗹𝗲 𝗘𝗸𝗮𝗺𝗯𝗮𝗿𝗲𝘀𝘄𝗮𝗿𝗮𝗿 𝗧𝗲𝗺𝗽𝗹𝗲 𝘁𝗼 𝗧𝗵𝗶𝗹𝗹𝗮𝗶 𝗡𝗮𝘁𝗮𝗿𝗮𝗷𝗮𝗿 𝗧𝗲𝗺𝗽𝗹𝗲 𝗶𝘀 𝗲𝘅𝗮𝗰𝘁𝗹𝘆 𝟭𝟬𝟬 𝗺𝗶𝗹𝗲𝘀!

यह मानवीय रूप से कैसे संभव है पंच भूत स्तलम भगवान शिव को समर्पित प्राचीन हिंदू मंदिरों का एक समूह है। इन सभी मंदिरों का निर्माण 1000 साल से भी … Read More

रामप्पा मंदिर :रामलिंगेश्वर मंदिर के नाम से भी प्रसिद्ध है

रामप्पा मंदिर, जो रामलिंगेश्वर मंदिर के नाम से भी प्रसिद्ध है, काकतीय राजवंश के समय का है। कहा जाता है कि मंदिर का नाम इसके मुख्य मूर्तिकार और वास्तुकार रामप्पा … Read More

हम्पी “जीत का शहर”

प्राचीन राजधानी विजयनगर हम्पी आज उत्तरी कर्नाटक में एक दूरदराज का गाँव है, लेकिन यह 1986 के बाद से एक महत्वपूर्ण और व्यापक पुरातात्विक स्थल – यूनेस्को की धरोहर स्थल … Read More

कहानी एक ऐसे वीर राजपूत की जिसने देश के लिए अपने बच्चों क बलिदान दे दिया|

हमारे क्षत्रिय कभी कितने बहादुर हुआ करते थे, इसकी कितनी ही कहानियां आपने सुनी होंगी। हमारे इन वीरों को विदेशी शासकों ने इस प्रकार बलहीन और बुद्घिहीन करने का प्रयास … Read More

कंप्यूटर प्रोग्रामिंग के पिताश्री: महर्षि पाणिनि

कंप्यूटर प्रोग्रामिंग के पिताश्री: महर्षि पाणिनि – Ancient Programming By Maharshi Paniniमहर्षि पाणिनि के बारे में बताने पूर्व में आज की कंप्यूटर प्रोग्रामिंग किस प्रकार कार्य करती है इसके बारे … Read More

2400 साल पुराने प्राचीन बंकरों और परमाणु युद्ध आश्रयों को भारत में मिला

भारत दुनिया की सबसे पुरानी संस्कृतियों में से एक है। हाल ही में भारत ने बिहार क्षेत्र में कई गुफाओं में किए गए कुछ अभूतपूर्व खोजों से अपनी प्रतिष्ठा को … Read More

एक हिन्दू को इन बातों की जानकारी रखनी चाहिए

एक हिन्दू को इन👇 बातों की जानकारी , जबानी रखनी चाहिए : “श्री मद्-भगवत गीता”के बारे में- ॐ . किसको किसने सुनाई?उ.- श्रीकृष्ण ने अर्जुन को सुनाई। ॐ . कब … Read More

विजय स्तम्भ या टॉवर,चित्तौड़गढ़ राजस्थान

पढ़िए और गर्व किजिये सनातनी होने पर –   600 साल पहले ना सरिया था ना JCB मशीन थी फिर भी 9 मंजिली ये कलाकृति दुनिया के लिये अजब नमूना … Read More

कोणार्क के सूर्य मंदिर को यूनेस्को ने 1984 में विश्व धरोहर स्थल के रूप में मान्यता दी है।

कोणार्क सूर्य मंदिर, ओडिशा, भारत के तट पर पुरी से लगभग 35 किलोमीटर उत्तर पूर्व में कोणार्क में 13 वीं शताब्दी का सूर्य मंदिर है। मंदिर को 1250 ईस्वी पूर्व … Read More

सास बहू का अदभुत मंदिर

ग्वालियर किले के पूर्व में स्थित सास-बहू मंदिर देखने में जितना सुंदर है इसकी गाथा भी उतनी ही अद्भुत है। मंदिर के बनने के पीछे की कहानी वर्ष 1092 ईस्वी … Read More